TO READ MORE CLICK HERE

Monday, October 14, 2019

ना तो डूबते हैं और ना तो सतह नजर आती है !! Famiy problems and solutions

किसमत ऐसी है , ना तो डूबते हैं और ना तो सतह नजर आती है 

Photo by Kat Jayne from Pexels

नमस्कार दोस्तों आज मैं बहुत दिनों के बाद आप के सामने आ रही हूँ , दोस्तों जीवन में आदमी तो बहुत कुछ करना चाहता है पर होता वही है जो ऊपर बाले को पसंद होता है !


"चाहतें सभी में होतीं हैं , दरिया पार कर जाने की "
"पर अपनी तो किसमत ऐसी है ,ना तो डूबते हैं और ना तो सतह नजर आती है "

शरीर में कब क्या हो जाए पता करना मुश्किल है ! आज कल तो, जो डॉक्टर के चक्कर में पड़ गया सारी सम्पत्ति देने के बाद भी ठीक होने के चांस  1 % ही होते हैं !मुझे किडनी की समस्या हो गयी है जिस के चलते मै आज तक अस्पतालों के चक्कर चल रहे थे ! समस्या भी दूर नहीं हुई और सारा पैसा भी गवा चुकी और माँगना हमारी फ़ितरत में नहीं ! अब बस कुछ ही दिन हैं ,जो जी भर के जीना चाहती हूँ !

तो मेरी एक दोस्त के साथ घटी घटना आ के समक्ष रखती हूँ , आप ही निष्कर्ष निकालें क्या सही है और क्या गलत !आज आयुषी (मेरी दोस्त) अपनी गाड़ी में हमीरपुर जा रही थी , भोटा चौक से आगे जाते ही कुछ दूरी तक सड़क तंग है और ड्रेनेज होल सड़क से ऊपर निकले हुए हैं !

जब वह अपनी गाड़ी से आगे निकल रही थी तब हॉल से बचाते हुए  उस ने अपनी गाड़ी आगे निकालना चाही इस के लिए उस ने अपनी गाड़ी दाहिनी तरफ ले ली ! तभी आगे से एक नीले रंग की गाड़ी तेज़ी से आयी और उस  ने आगे से रास्ता रोक लिया , आयुषी ने इशारा करते हुए दूसरी गाड़ी को होल के बारे में इशारा किया पर सामने बाला समझा नहीं और गालियाँ देते हुए बोला , औरतों को कुछ पता तो होता नहीं और गाड़ी लेकर आ जातीं   हैं !

गुस्सा तो उसे भी आया ,क्योंकि हर आदमी की अहमियत होती है और जब कोई दूसरा गलत बोलता है तो दिल तार तार हो जाता है ! पर आयुषी ने गुस्से को पीते हुए गाड़ी पीछे की और होल के ढक्कन पर चढ़ा दी ,जिससे गाड़ी नीचे टकरा गयी !

Photo by Vera Arsic from Pexels
दूसरी गाड़ी जब पास से गुजर रही थी तो आयुषी ने गाड़ी बाले से बोला भईया इस होल के कारण मैंने गाड़ी गलत साईड ली थी पर आप समझे नहीं जिस के कारण मेरा नुक्सान हो गया अगर आप सब्र कर लेते तो !!!!!!!! इतना बोलना था की वो आग बबूला हो गया और बोला "चल चल" चली जा आगे ! वो ऐसे बोलता - बोलता आगे निकल गया ! 

आयुषी तो इज्जत से ही बोल रही थी पर शायद वह वीवी की डाँट खा कर आया था जो अपनी भड़ास मेरी दोस्त पर निकाल दी !

दोस्तों आजकल सड़कों  पर झगड़ों का यही कारण है !हम एक दूसरे को समझ नहीं पाते ,हमेशा जल्दी में रहते हैं !किसी की कोई इज्जत नहीं है ! इंसानियत मर चुकि है हम में !दोस्तों इक दिन तो मर ही जाना है एक बार दूसरे की इज्जत करना तो सीखो सड़कों के राजा न बनो दूसरे को रास्ता देकर तो देखो , फिर आएगा सफर का मज़ा ! 

पर कुछ लोग तो समझेंगे नहीं वो वे लोग होते है जिन के घरों में लड़ाई झगड़ा चलता रहता है और वो इस लड़ाई को सड़कों पर दूसरों के साथ भी ले जाते हैं !

जिसे मेरी बात कड़वी लगी हो वो गुस्से में गाड़ी चलाता रहे और गुस्से में ही ऊपर जाने की तैयारी रखे क्योंकि जैसे को तैसा मिलता है !


MY OTHER LINKS :-












No comments:

VIRAL POSTS