सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Himachali Kavita || हिमाचली कविता || Himachali Song || हिमाचली गाने ||हिमाचली धाम

Himachali Kavita || हिमाचली कविता || Himachali Song  || हिमाचली गाने

हिमाचली धाम

सत सब्जियाँ ,मिट्ठा भत्त |
भानू बोटी, बोलदा ही मत |
मदरा, मूँगी, रैंटा बणदा |
माह, चणे कन्ने पलदा |


तीणी पर चरोटी रख |
छाबड़िया नै पाईता भत्त |
लट्टा पर रखी चरोटी |
भत्त निकलेया जियाँ मोती |

भत्ता ने डल्ला भरी ता |
हुण मदरा कन्ने पलदा रखी ता |
माह, चणे ,रैंटे कन्ने खट्टे जो तड़का |
बस बणाई सकदा भानू बड़का |
भुक्ख लगी ,होई तैयारी |
लोग चली पए सड़का सड़का |


पंदी बछाईयाँ पत्तर बंडी ते |
छाँदे सारेयां दे लग रखी ते |
मजे लाई सारेयां खादी |
धाम मजेदार लगदी सादी |


धाम ,तीणी पर चरोटिया च बणाणी |
सारेयां पंगती च बैठी नै खाणी |
परंपरा ए बड्डी पराणी |
ओ नी जाणदे जिना होटलाँ च खाणी |

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

Your comments will encourage me.So please comment.Your comments are valuable for me

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Best Motivational Speech in Hindi || बेहतरीन प्रेरणादायक स्पीच || माँ बाप प्यार के भूखे हैं

Best Motivational Speech in Hindi || बेहतरीन प्रेरणादायक स्पीच माँ बाप प्यार के भूखे हैं |उन्हें कुछ समय दो |      ----------------------------------------------- Photo by  Andreas Wohlfahrt  from  Pexels एक दंपती दीपावली की ख़रीदारी करने को हड़बड़ी में था। पति ने पत्नी से कहा, "ज़ल्दी करो, मेरे पास टाईम नहीं है।" कह कर कमरे से बाहर निकल गया। तभी बाहर लॉन में बैठी माँ पर उसकी नज़र पड़ी। कुछ सोचते हुए वापस कमरे में आया और अपनी पत्नी से बोला, "जीया, तुमने माँ से भी पूछा कि उनको दिवाली पर क्या चाहिए? जीया बोली, "नहीं पूछा। अब उनको इस उम्र में क्या चाहिए होगा यार, दो वक्त की रोटी और दो जोड़ी कपड़े....... इसमें पूछने वाली क्या बात है? यह बात नहीं है जीया...... माँ पहली बार दिवाली पर हमारे घर में रुकी हुई है। वरना तो हर बार गाँव में ही रहती हैं। तो... औपचारिकता के लिए ही पूछ लेती। अरे इतना ही माँ पर प्यार उमड़ रहा है तो ख़ुद क्यों नहीं पूछ लेते? झल्लाकर चीखी थी जीया ...और कंधे पर हैंड बैग लटकाते हुए तेज़ी से बाहर निकल गयी। सूरज माँ के पास

आज का जीवन मंत्र || Aaj Ka Jeevan Mantra || आज का विचार || Aaj Ka Vichaar

 आज का जीवन मंत्र || Aaj Ka Jeevan Mantra || आज का विचार || Aaj Ka Vichaar दृष्टिपूतंन्यसेत्पादंवस्त्रपूतंपिवेज्जलम् | शास्त्रपूतंवदेद्वाक्यंमन:पूतंसमाचरेत || आज का जीवन मंत्र हिन्दी में  अच्छी तरह से देखकर ही कदम आगे रखना चाहिए |वस्त्र से छानकर ही जल पीना चाहिए |शास्त्रानुसार ही वचन बोलने चाहिए  और सोच समझकर ही कार्य करना चाहिए | Today's Life Mantra In English One should step ahead only after seeing well. Water should be drunk after filtering through cloth. One should speak words according to scripture and act after thinking. 🍇🍇🍇🍇🍇🍇🍇🍇🍇🍒🍒 आज का विचार | Aaj Ka Vichaar जिस व्यक्ति का कहीं कोई मूल्य नहीं ,वह हर समय अपने को उच्चतम कहलाने कि कोशिश करता है और दूसरे उस के इस स्वभाव का भायदा लेकर उसे और उक्साते हैं | Today' Thought | Aaj Ka Vichaar A person who has no value anywhere, he tries to call himself the highest all the time and others take advantage of this nature of his and make him more excited and foolish. अन्य पढ़ें  माया क्या है  इन्द्रियों  को वश में करें   जीव

Best Motivational Speech in Hindi || बेहतरीन प्रेरणादायक स्पीच || क्यों बिगड़ रहा बचपन,

  Best Motivational Speech in Hindi || बेहतरीन प्रेरणादायक स्पीच  क्यों बिगड़ रहा बचपन, क्यों बिगड़ रही जवानी ?? बिगड़ा पड़ा है बचपन , बिगड़ी पड़ी जवानी, ना कोई उद्देश्य है , ना कोई कहानी, संभाल लो ए दोस्त, किसी काम कि नहीं रहेगी रवानी | Photo by  mr_Jb_ 57  from  Pexels दोस्तो बहुत दुखी हो जाता है मन ,जब कोई बच्चा या जवान नशा करता हुआ,बीड़ी ,सिग्रेट पीता हुआ या गुन्डागर्दी करता हुआ मिलता है |आज बच्चों में प्रेम भावना,इज्जत सम्मान रहा ही नहीं |यह कैसी परवरिश कर रहे हम अपने भविष्य की | क्या यह सही समय नहीं है कुछ करने का?क्या गंदी होती नदी को साफ नहीं किया जा सकता ?अगर साफ नहीं किया जा सकता तो क्या कोशिश भी नहीं की जा सकती ?एक बार सोच कर देखें | आज हम  स्वार्थी हो गए हैं जब किसी बच्चे को बिगड़ते हुए देखते हैं ,तो उसे टोकने कि बजाए, अपने रास्ते चलते चले जाते हैं |बस सब कि यही सोच हो चुकी है कि "मेरे बच्चे ठीक हैंं,समझदार हैं और अच्छी आदतों बाले हैं,दूसरे का बिगड़ता है तो बिगड़े ,मेरा क्या जाता है " | हम भूल जाते हैं कि एक मछली सारे तालाब को गंदा कर सकती है ,इस की कम से कम गंध त