रविवार, 11 जुलाई 2021

हिमाचल कि सुन्दर सड़कें | हिमाचले दियाँ सड़काँ

 हिमाचल कि सुन्दर सड़कें | हिमाचले दियाँ सड़काँ 




सड़काँ महारियाँ,पहाड़ाँ पर चलदियाँ |

अज सुणाँदा ,सै कियाँ बणियाँ ||


राज अड़ेया,अड़ेया जफ्फा |

चन्दू अड़ेया,अड़ेया घप्पा ||

समझ जे आई इना जो |

फेरी सारेयाँ मिली जुली कम पूरा करेया |


सड़काँ महारियाँ,पहाड़ाँ पर चलदियाँ |

अज सुणाँदा ,सै कियाँ बणियाँ ||


टिक्कुएँ बोलेया ,माफी मंगा |

राजें बोलेया, देई दिखण डंगा ||

जौफियें बाया था केसर |

ताँ कियाँ दिन्दा खेतर ||


सड़काँ महारियाँ,पहाड़ाँ पर चलदियाँ |

अज सुणाँदा ,सै कियाँ बणियाँ ||


गर कोई भी नी खेतराँ दिंदे |

पैदल ही जाँदे सारे घुमणे ||

मुन्डू सारे कँवारे रैन्दे |

ना ही छोटे मोटे व्यापार हुन्दे ||


सड़काँ महारियाँ,पहाड़ाँ पर चलदियाँ |

अज सुणाँदा ,सै कियाँ बणियाँ ||


कई अड़े रहे,कईए कितियाँ मीटिंगाँ |

कई पत्र निकले,कई बणियाँ कहाणियाँ ||

ए जे गड्डियाँ ,सडका पर दौड़ा दियाँ |

पता नी कितनेयाँ कित्तियाँ कुर्बानियाँ ||



अन्य कवितायें 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Your comments will encourage me.So please comment.Your comments are valuable for me