श्रीमद्भगवद्गीता का महत्व | भगवद्गीता का अध्याय 1 का श्लोक 2 और 3 हिन्दी व English अर्थ सहित

 श्रीमद्भगवद्गीता का महत्व | भगवद्गीता का अध्याय 1 का श्लोक 2 और 3 हिन्दी व English अर्थ सहित


www.topperskey.com



लगभग 5000 वर्ष पहले  युद्ध के मध्य दिया गया एक हिन्दु धर्मोपदेश जिसे 18 अध्यायों और 700 श्लोकों में संजोया गया श्रीमद्भगवद्गीता का महत्व ,आज भी पूरे विश्व के लिए एक विश्लेषण का विषय है |जब हम  गीता को पढ़ते हैं तो पाते हैं कि यह धर्मोपदेश जो कई बर्षों पहले दिया गया आज के युग में भी उतना ही कारगर है जितना उस समय था |


मैं आप को हर रोज गीता के एक श्लोक का हिन्दी व English अर्थ बताऊँगी व यह भी बताने कि कोशिश करूँगी कि आज के आधुनिक युग में आप इसे कैसे कारगर सावित कर सकते हैं |श्रीमद्भगवद्गीता का महत्व 

_______________________________

भगवद्गीता अध्याय 1

श्लोक 2 और 3

संस्कृत


सञ्जय उवाच


दृष्ट्वा तु पाण्डवानीकं व्यूढं 

दुर्योधनस्तदा |

आचार्यमुपसंग्म्य राजा वचनब्रवीत् ||2||


पश्यैतां पाण्डुपुत्राणामाचार्य महतीं 

चमूम |

व्यूढां द्रुपदपुत्रेण तव शिष्येण धीमता ||3||

_______________________________

भगवद्गीता अध्याय 1

श्लोक 1 और 2

हिन्दी में अनुवाद


संजय ने कहा 

दुर्योधन, पाण्डवों की सेना कि व्यूह रचना देखकर ,द्रोणाचार्य के पास जा कर यह वचन बोले || 2||


हे आचार्य ,पाण्डवों कि इस बड़ी भारी सेना को देखिए |

जो आपके शिष्य द्रुपदपुत्र धृष्टद्युम्न द्वारा रचित व्यूह में खड़ी है ||2||


_______________________________

 Translation of  Chapter 1 Verse 2 and 3 of Shreemadbhagwadgeeta  In English


Sanjay said 

Duryodhana, after seeing the arrangement of the army of Pandavas, went to Dronacharya and said these words || 2|| 


O Acharya, look at this huge army of Pandavas. Who is standing in the form of vyuha created by your disciple Drupadaputra Dhrishtadyumna ||2||

_______________________________

भगवद्गीता के अध्याय 1 क 2 और 3 श्लोक का आधुनिक युग में महत्व 


जो भी नकारात्मक विचार हैं ,वह आपके सकारात्मक विचारों कि ताकत का आकलन कर के ही आप पर हावी होते हैं |


______________________________


Importance of Adhyay 1, 2 and 3 verses of Bhagavad Gita in the modern era 


Whatever negative thoughts are, they dominate you only by assessing the power of your positive thoughts.


अन्य पढ़ें


टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

Your comments will encourage me.So please comment.Your comments are valuable for me