सोमवार, 20 अप्रैल 2020

माँ

माँ


मेरे हँसते चेहरे को देख, वो भी खिलखिला देती है |
जब भी मैं दु:खि होता हूँ, वो भी रो देती है ||


डाँटती है जब मुझे, अन्दर ही अन्दर रोती है |
शरारतों को मेरी देख, मुस्कुरा तू देती है ||
जो चोट खा जाऊँ मैं, दर्द तू ले लेती है |
माँ तो माँ है, मुश्किल में साथ देती है ||


मेरे हँसते चेहरे को देख, वो भी खिलखिला देती है |
जब भी मैं दु:खि होता हूँ, वो भी रो देती है ||


बूढ़ों का मान, सबका सम्मान |
मेरे लिए तू सारा जहान ||
दूसरों कि मदद करना मैने तुझ से सीखा है |
दूनिया में कैसे जीना तुझ से ही सीखा है ||


किसी की मदद बिन सोचे वो करती है |
जब भी मैं दु:खि होता हूँ, वो भी रो देती है ||


बिन माँ जिन्दगी नहीं ,बिना उस के नहीं ज्ञान |
माँ बनाई, क्योंकि हर जगह नहीं हो सकता भगवान |
उसकी डाँट भी प्यार ही मुझे लगती है |
जब भी मैं दु:खि होता हूँ, वो भी रो देती है ||

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Your comments will encourage me.So please comment.Your comments are valuable for me