बुधवार

Welcome Shayari ||शायरी ||स्वागतम शायरी

Welcome Shayari ||शायरी ||स्वागतम शायरी


1.

स्वागत है मेहमाँ,इस रंग भरी शाम में, 
फूल तो क्या है,दिल बिछाए हैं तेरी राह में, 
के तेरे लिए सजाई है महफिल, 
तेरे आने से जान आ गई, बिसरी सी चाह में |


2.

चाह थी इतनी सी, कि आप आएं ,
महफिल में मजा तुम्हीं से है, 
तुम्ही हो फूल खुशबू तुम्ही से है,


3.

शामें फुर्सत के मिले हैं, 
आओ कुछ बात करें|
शामें महफिल सजी है, 
आओ कुछ बात करें|
इन जुगनुओं कि टोली, 
बढ़ती रात की तरफ इशारा कर रही, 
टिमटिमाते तारों की छाँव है, 
आओ कुछ बात करें |

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Your comments will encourage me.So please comment.Your comments are valuable for me