मंगलवार, 31 मार्च 2020

चक्रव्यूह

चक्रव्यूह

भरत का देश, कहते हैं भारत इसे ,
हर मुसीबत से निकलने का दम रखता है |
जब भी चक्रव्यूह रचा जाता, यहाँ अर्जुन जनमता है ||

तुम्हारी क्या औकात मुश्किलों, जो हम से टकराओगी |
चाहे जितना जोर लगा लो, बापस घर जाओगी ||
जहाँ रावण है पनपता,वहीं राम भी पलता है |
जब भी चक्रव्यूह रचा जाता, यहाँ अर्जुन जनमता है ||

शाखाएँ गर रहीं तो पत्ते भी आएंगे |
हैं दिन बुरे तो अच्छे भी आएँगे ||
रहो घर पर, दूरियाँ बनाए रखो |
छुपाने कि गलती से रोग ज्यादा पनपता है |
जब भी चक्रव्यूह रचा जाता, यहाँ अर्जुन जनमता है ||

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Your comments will encourage me.So please comment.Your comments are valuable for me